Subscribe Daily Horoscope

Congratulation: You successfully subscribe Daily Horoscope.
HomeEffect of transits of planets in housesEffect of transit of mars in houses

Effect of transit of Mars in houses

मंगल का लग्न से गोचर का फल

मंगल जब आपके लग्न से गोचर करता है तो आपमें आत्मबल की अधिकता देता है । आपमें ऊर्जा और क्षमता अधिक होती है जिससे आप अपने विचारों को कार्यान्वित करने में सफल हो सकते हैं । आपमें क्रोध की अधिकता हो जाती है और अहंकार वश आपका झगड़ा होना भी संभव होता है । आपको इस से बचना चहिये । दूसरों को परेशान करने से बचिए और अपने कार्य में अपनी ऊर्जा का दोहन कीजिये । आपकी निजी जीवन में यह  समस्या दे सकता है किन्तु प्रेम संबंधों में नहीं । अगर इस दौरान आपको चोट लगती है अथवा आप दुर्घटना  ग्रस्त होते हैं तो बहतु सम्भावना आपके सर अथवा चहरे पर घाव होने की होती है ।

मंगल का धन भाव से गोचर फल

मंगल जब आपके धन भाव अथवा कुटुंब स्थान से गोचर करता है तो आपमें चीज़ों के प्रति अधिक रूचि पैदा करता है । इस समय में आप अपनी विलासिता का प्रदर्शन भी करते हैं और भावावेश में चीज़ें क्रय करते हैं । आपमें धन प्राप्त करने की अधिक ललक जागती है और आपके प्रयासों में तीव्रता आती है । इस समय आप नयी योजनाओं पर अधिक क्रियाशील होते हैं अथवा चल रही योजनाओं को अधिक उत्साह से आगे बढ़ाते हैं । इस समय आपका अहंकार आपको अपनी भौतिक संपत्ति के प्रदर्शन करने की प्रेरणा देता है । अगर इस समय आपका  विवाद होता है तो संभव है की वह किसी वस्तु , व्यक्ति  आदि के स्वामित्व पर हो सकता है । इस समय आपको अपने क्रेडिट कार्ड को अलमारी में रख देना चहिये ।

मंगल का पराक्रम भाव से गोचर

पराक्रम अथवा तृतीय भाव से मंगल के गोचर में आपके मन में कई योजनाएं जन्म ले सकती हैं और आपकी ऊर्जा अनेकों जगह नष्ट हो सकती है और काम भी आ सकती है निर्भर करता है की आपकी प्लानिंग कितनी सटीक है । यह समय अपनी योजनाओं को दूसरों को बेचने का सबसे अच्छा समय होता है । इस समय आपका सेल्स पिच बहुत प्रभावशाली होता है और शब्द विन्यास बहुत ही उत्कृष्ट होता है । इस समय यह भी संभव है की आपका सामान्य संवाद विवाद में बदल जाए । आपको वाहन चलाने में अथवा हाथों से करे जाने वाले सभी कार्यों में सावधानी रखनी चाहिए । इसलिए ड्राइविंग हो , मशीनों का सञ्चालन हो अथवा मामूली सब्जी काटना भी आपको भारी पड़ सकता है । योजनाओं पर मानसिक चिंतन के लिए यह सबसे बढ़िया समय होता है ।

मंगल का चतुर्थ भाव से गोचर फल

घरेलू  कार्यों को निपटाने के लिए यह सही समय होता है । इस समय आप अधिक स्वयं के बचाव की मुद्रा में रहते हैं । इस समय यह संभव होता है की आपको घर के कार्यों की जिम्मेदारी प्रमुखता से दे दी जाय । इस समय आपको अपने निवास को रिपेयर करने में , साज सज्जा  बेहतर करने में अधिक योगदान देना चहिये । आपका इस समय घर वालों के साथ ही विवाद होने की सम्भावना तो होती ही है , यह भी संभव है की आप अपने किसी परिव के सदस्य की खातिर दूसरों  से विवाद मोल ले लें । अतीत में करे गए किसी कार्य को लेकर आप आत्मा चिंतन में भी लीन हो सकते हैं ।

मंगल का संतान भाव से गोचर फल

इस समय आपमें स्वयं को अभिव्यक्त करने की ललक जाग सकती है । यह भी संभव है की आपमें इच्छा तो हो किन्तु आप स्वयं को प्रदर्शित उस तरह से न कर पाएं जिस तरह से आप सोच रहे हैं । इस समय आप अपना समय अपने बच्चों के साथ अधिक बिता  सकते हैं , रोमांस में आपका अधिक समय खप सकता है , खेल कूद में आपकी रूचि हो या चित्रकारी में तो इनमें आपका समय अधिक जा सकता है । मनोरंजन आपका सबसे अधिक समय लेने लगता है चाहे वह किसी भी रूप में हो । आपका व्यक्तित्व काफी चुम्बकीय होने लगता है ।

मंगल का छठे भाव से गोचर फल

मंगल का छठे भाव से गोचर अधिकतर लाभप्रद ही होता है । आपकी रोज़मर्रा की जीवन शैली व्यवस्थित होती है और अधिक गति प्राप्त करती है । इस समय अपने स्वास्थ्य को लेकर भी जागरूक रहना चहिये और व्यायाम करना बहुत ही बढ़िया रहता है । इस समय आपमें दूसरों को निम्न दिखाने की इच्छा भी जाग सकती है और इस कारण आपका टीम में कार्य करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है । इस समय सहकर्मियों से विवाद होने के अच्छे योग जन्मते हैं और बाद में आपको यही  सब बुरा भी लगता है । इस समय अच्छा होता है की आप किसी अतिरिक्त जिम्मेदारी को भी अपने पर ले लें जिस से आपका समय काम में लगा रहे । इस  समय आपमें खिन्नता बहुत आ सकती है जिस से विवाद होना लाजमी होता है । इस समय आपको इन्फेक्शन और बुखार होने की अधिक संभावना होती है ।

मंगल का सप्तम भाव से गोचर फल

इस समय आपको अपने व्यापार और विवाहित जीवन दोनों में ही सावधान रहना चाहिए । अहंकार इस समय अपने चरम पर होता है और यही विवाद की वजह बनता है । आपके विरोधी आपसे अधिक बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं जिससे आपको और क्रोध आता है । मंगल की इस ऊर्जा को बजाय लड़ने झड़ने की , समस्याओं के समाधान में लगाना अधिक लाभकारी होता है । इस समय आपकी निजी ज़िन्दगी में अचानक ही लड़ना झगड़ना और  रूठना मनाना लगा रहता है । 

मंगल का अष्टम भाव से गोचर फल

आपकी सेक्स ऊर्जा तथा शैय्या सुख की कामना इस समय बलवती होती जाती है । आपकी काम क्रिया में पशुता का भाव आना भी एक संभावना बनी रहती है जो आपके पार्टनर के लिए पीड़ादायी हो सकती है । इस समय आपका अहंकार आपसे किसी संयुक्त प्रॉपर्टी अथवा धन खाते  अथवा  किसी  अन्य चीज़ आदि के ऊपर विवाद करा सकता है । इस समय आप अधिक सावधान रहते हैं किन्तु फिर भी कुछ न कुछ गलत हो जाना स्वाभाविक होता है ।

मंगल का भाग्य  स्थान से गोचर फल

इस समय आप सामान्य से अधिक ऊर्जा से ओतप्रोत रहते हैं और आपमें किसी रोमांच की इच्छा भरी रहती है । आपमें स्वयं के व्यक्तित्व के प्रसार करने की इच्छा जगती है जो आप किसी भी प्रकार से करने को लालायित रहते हैं । आपको ऐसा लगने लगता है की कुछ नया सीखना चहिये अथवा उच्च शिक्षा लेनी चाहिए या फिर कुछ भी नया करने की आपकी सोच बनती है । अगर इस समय आपका विवाद होता है तो वह किसी विचार पर हो सकता है या फिर किसी से मामूली मतभेद भी झगड़ा करा देता है । आपका अपने शिक्षक , गुरु , पिता , ट्रेवल एजेंट , एयरलाइन स्टाफ से झगड़ा होना संभव होता है ।

मंगल का दशम स्थान से गोचर फल

 क्रोध , अहंकार, ऊर्जा , गतिविधि को बढ़ाने वाला ग्रह जब  दशम भाव से गोचर करता है तो आपमें स्वयं को श्रेष्ठ करने की इच्छा जगाता है , आपमें ख्याति पाने की इच्छा होती है  और आप चाहते हैं कि लोग आपको अधिक तवज्जो दें । किसी काम को शुरू करने का यह अच्छा समय हो सकता है । अधिकार प्राप्त लोगों से गंभीर विवाद होने के भी बहुत योग रहते हैं । आपकी ऊर्जा का अधिकतर भाग स्वयं को प्रदर्शन करने में व्यय हो सकता है । आप दूसरों पर स्वयं को आरोपित करने का प्रयास भी  कर सकते हैं ।

Mars Transits the Eleventh House

मंगल का लाभ स्थान से गोचर फल

लाभ स्थान में  मंगल के आने पर आपको प्रयास करना चाहिए की अपने कार्यों में दूसरों की सहायता भी लें और दूसरों के लिए स्वयं भी सहायक बनें ।  आपको इस समय इच्छा होगी की आप अपनी टीम को स्वयं लीड करें न की कोई और और यह विवाद का मूल बन सकता है । कार्यों को सही तरीके से सम्पादित और क्रियान्वित करने की आपमें इस समय अच्छी ऊर्जा व् क्षमता रहती है और आपको इसका लाभ लेना चाहिए । दूसरों के लिए आप समय निकालकर उनकी सहायता करते हैं और आपका समय दूसरों के कार्यों में अधिक व्यतीत होता है बजाये आपके अपने कार्यों के ।

मंगल का द्वादश भाव में गोचर फल

मंगल जब आपके द्वादश भाव से गोचर करे तो बेहतर यह होता है की आप थोड़ा सा आत्मावलोकन करें और अपनी गलतियों को ढूंढे , सुधारने की दिशा में यत्नशील  हों । आपमें एकाकी होने का भाव भी आ सकता है और आपको ऐसा लगता है की दूसरों को आपके काम में दखल नहीं देना चाहिए । कुछ जातकों को अनिद्रा की शिकायत हो सकती है और कुछ अनेकों स्वप्नों में रात्रि निकाल सकते हैं और कुछ अपने कार्यों की प्रगति के मार्ग सोचते हुए समय व्यतीत कर सकते हैं ।