Subscribe Daily Horoscope

Congratulation: You successfully subscribe Daily Horoscope.
 

पन्‍ना रत्‍न पेंडेंट

पन्‍ना रत्‍न पेंडेंट

पन्ना रत्न पहनने से आपकी किस्मत खुल सकती है। यह हल्के से गहरे हरे रंग का रत्न होता है। बुध ग्रह का यह चमकदार रत्न आपको हर मुश्किल से बचाने कि शक्ति रखता है। बुध ग्रह कन्या तथा मिथुन राशि का स्वामी है। बुध ग्रह वाणी, व्यापार, कला, वाणिज्य, शिक्षा, गणित, कॉमर्स आदि का कारक होता है। कन्या राशि तथा मिथुन राशि के जातकों को पन्ना रत्न से बने पेंडेंट को अपने गले में धारण करने के बाद बहुत ही शीघ्र लाभ होता है। जीवन में खुशहाली आती है और जीवन में कभी धन कि कमी महसूस नहीं होती।

डिलीवरी: 3-4 दिनों में डिलीवरी
मुफ़्त शिपिंग: पूरे भारत में
फ़ोन पर ख़रीदें: +91 82852 82851
अभिमंत्रित: फ्री अभिमन्त्रण पंडित सूरज शास्त्री जी द्वारा

पन्ना रत्न पहनने से आपकी किस्मत खुल सकती है। यह हल्के से गहरे हरे रंग का रत्न होता है। बुध ग्रह का यह चमकदार रत्न आपको हर मुश्किल से बचाने कि शक्ति रखता है। बुध ग्रह कन्या तथा मिथुन राशि का स्वामी है। बुध ग्रह वाणी, व्यापार, कला, वाणिज्य, शिक्षा, गणित, कॉमर्स आदि का कारक होता है। कन्या राशि तथा मिथुन राशि के जातकों को पन्ना रत्न से बने पेंडेंट को अपने गले में धारण करने के बाद बहुत ही शीघ्र लाभ होता है। जीवन में खुशहाली आती है और जीवन में कभी धन कि कमी महसूस नहीं होती।

हमने अक्सर देखा है कि बड़े-बड़े बिज़नेस मैन, कलाकार, फ़िल्मी जगत के लोग, राजनीति से जुड़े लोग, नेता आदि पन्ना रत्न धारण करते है, इस रत्न के प्रभाव के कारण ही इन लोगों को प्रसिद्धि और धन एकसाथ मिलता है, समाज में मान-सम्मान मिलता है।

किन परिस्थितियों में धारण करे पन्ना रत्न पेंडेंट 

-पन्ना रत्न से बना पेंडेंट अगर मिथुन राशि के लोग धारण करते है तो पारिवारिक कलह से आपको राहत मिलती है, आपके माता का स्वास्थ्य ठीक रहता है। वाणी प्रभावशाली होती है फलस्वरुप व्यापार में तरक्की होती है।

  • कन्या लग्न के जातक जीवन में सफलता पाना चाहते है, व्यापार में यश तथा सरकारी कार्य में उच्च पद पाना चाहते है तो निसंकोच ही पन्ना रत्न धारण कर लेना चाहिए।
  • अगर किसी के जन्म कुंडली में बुध छठें, आठवें, बारहवें भाव में हो तो पन्ना धारण करना चाहिए।
  • अगर बुध धनेश होकर नवम भाव में हो, तृतीयेश होकर दशम भाव में हो, चतुर्थेश, सुखेश होकर ग्यारहवे भाव में हो तो पन्ना पहनना बहुत ही शुभ माना जाता है।
  • अगर बुध शुभ स्थान का स्वामी होकर अष्टम भाव में हो तो पन्ना धारण करना शुभ होता है।
  • अगर बुध कि अंतर्दशा या महादशा चल रही हो तब भी पन्ना धारण करना उत्तम माना गया है।
  • अगर बुध मंगल,शनि,राहु या केतु के साथ हो तो पन्ना धारण करना चाहिए।
  • जिस जातक की कुंडली में बुध ग्रह शुभ स्थिति में है परन्तु अपना कम बल दे रहे है, उन जातकों को इस पन्ना रत्न से बने पेंडेंट को अपने गले में अवश्य धारण करना चाहिए।

न्ना रत्न पेंडेंट के लाभ-

  • इस रत्न को धारण करने से अनिश्चितता निश्चितता में बदल जाती है।
  • विद्यार्थी अगर इस रत्न को पहनते है, तो उनकी बुद्धि तेज हो जाती है तथा एकाग्रता में वृद्धि होती है।
  • यह पेंडेंट रोगियों के लिए बलवर्धक, आरोग्यदायक और मानसिक शांति प्रदान करने वाला होता है।
  • जिस घर में पन्ना होता है, उस घर में धन-धान्य,ऐश्वर्य और सुख-शांति कि कमी कभी नहीं होती।
  • पन्ना पेंडेंट धारण करने के बाद व्यापार का विस्तार होता है, वाणी प्रभावशाली होती है, दूसरे लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करने में आप कामयाब होते है।
  • गणित और कॉमर्स से सम्बंधित शिक्षा प्रदान करनेवाले अध्यापकों के लिए पन्ना धारण करने से लाभ होता है।
  • कोर्ट-कचेहरी से सम्बंधित कार्य करने वाले लोगों को पन्ना अवश्य धारण कर लेना चाहिए, इससे वाणी में मधुरता आती है तथा अपनी वाकपटुता से दूसरों को परास्त करने में कामयाब होते है।
  • जो लोग फ़िल्मी क्षेत्र से जुड़े हुए है या अभिनय के क्षेत्र में अपना नाम कमाना चाहते है उनको यह रत्न शीघ्र ही धारण करना चाहिए।

न्ना किस दिन धारण करें तथा इसकी विधि

पन्ना रत्न जड़ित पेंडेंट शुक्ल पक्ष के बुधवार को सूर्योदय के पश्चात् बुध के मन्त्रों का 108 बार जाप करने के बाद धारण करे। धारण करने से पूर्व इस पेंडेंट के ऊपर गंगाजल के छींटे लगाएं, उसके पश्चात् बुध देव के नाम की पांच अगरबत्तियां जलाएं और प्रार्थना करें की हे बुध देव, मैं आपका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए यह पेंडेंट धारण कर रहा हूँ, मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करें तथा 108 बार अगरबत्ती के ऊपर से घुमाते हुए ॐ बु बुधाय नमः का जाप करें, उसके बाद यह पेंडेंट अपने गले में धारण करें।

हमसे क्यों लें

इस पन्ना जड़ित पेंडेंट को हमारे अनुभवी ज्योतिषों द्वारा अभिमंत्रित किया गया है, जिससे यह आपको जल्‍द ही शुभ फल दे। इस पेंडेंट के साथ सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा जो इस रत्‍न के ओरिजनल होने का प्रमाण है।

 

Reviews

Based on 0 reviews

Write a review