Subscribe Daily Horoscope

Congratulation: You successfully subscribe Daily Horoscope.
 

माणिक्‍य रत्‍न की अंगूठी

माणिक्‍य रत्‍न की अंगूठी

सूर्य ग्रह माणिक्य रत्न का स्वामी है। सूर्य की राशि सिंह है इसलिए सिंह राशि के लोगों को माणिक्य रत्न धारण करना चाहिए।

डिलीवरी: 5-8 दिनों में डिलीवरी
मुफ़्त शिपिंग: पूरे भारत में
फ़ोन पर ख़रीदें: +91 82852 82851
अभिमंत्रित: फ्री अभिमन्त्रण आचार्य रमन जी द्वारा

विवरण

रत्‍न:5.25 रत्‍ती
सर्टिफिकेट:VEGGA जयपुर
धातु:पंचधातु
वजन:3.5 से 5 ग्राम
माप:फ्री साइज (Adjustable)

सूर्य ग्रह माणिक्य रत्न का स्वामी है। सूर्य की राशि सिंह है इसलिए सिंह राशि के लोगों को माणिक्य रत्न धारण करना चाहिए।

सावधानी -जिस तरह से ये रत्न लाभ पहुंचाते हैं उसी तरह से यदि अनजाने में भी गलत रत्न धारण कर लें तो बहुत तेजी से शरीर को नुकसान भी पहुंचाते हैं। इसलिए ध्यान रखना चाहिए कि माणिक्य और उसके किसी भी विकल्प के साथ हीरा, नीलम, लहसुनिया और गोमेद को नहीं पहनना चाहिए।

सूर्य की कृपा से जातक को हर कार्य में सफलता मिलती है, इसलिए अगर सिंह राशि के लोग सफलता पाना चाहते हैं तो माणिक्य रत्न जरूर पहनें।

माणिक्य रत्न के लाभ 

  • सूर्य ग्रह का रत्न माणिक्य बहुत ही चमकदार एवं गहरा लाल या गुलाबी रंग का होता है। 
  • इस रत्न के प्रभाव से प्रेम भावना जागृत होती है। यह रत्न धारण करने से व्यक्ति में नेतृत्व करने के गुण आते है।
  • सरकारी क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों को माणिक्य पहनने से लाभ होता है।
  • कामकाज में लाभ और उन्नति के लिए यह रत्न धारण किया जाता है।
  • पुत्र संतान एवं भाईयों को मिल रही परेशानियों को दूर करने के लिए माणिक्य रत्न पहनना लाभकारी होता है।
  • बदनामी से बचने के लिए यह रत्न धारण किया जाता है।

हमसे क्यों लें 

इस रत्न की अंगूठी को हमारे अनुभवी ज्योतिषों ने सूर्य के मंत्रों द्वारा अभिमंत्रित किया है, जिससे यह आपको जल्द ही शुभ फल दे। इस अंगूठी के साथ सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा जो इस रत्न के ओरिजनल होने का प्रमाण है।

इस अंगूठी से संबंधित किसी अन्य जानकारी के लिए 8882540540 पर संपर्क करें और अपने लिए इस अंगूठी को मंगवाने में देर न करें।

 

Reviews

Based on 1 reviews

Write a review
 

अँगूठी पहनने के बाद हुआ प्रमोशन

मीनल सिंह राजपूत

मेरा प्रमोशन जो की सालों से रुका हुआ था, विधि अनुसार इस अँगूठी को धारण करने के १ महीने में ही हो गया। कई सालों से टीम लीडर रहने के बाद, आज मैं मैनेजर के पद्द पर कार्यरत हूँ। धन्यवाद आचार्य रमन जी आपके सटीक मार्गदर्शन के लिए। अब मैं ये माणिक्‍य रत्‍न की अंगूठी हमेशा पहन कर रखूँगी।