Subscribe Daily Horoscope

Congratulation: You successfully subscribe Daily Horoscope.
 

4 मुख्‍ाी रूद्राक्ष

4 मुख्‍ाी रूद्राक्ष

स्‍वयं ब्रह्मा जी का स्‍वरूप है चार मुखी रुद्राक्ष। ब्रह्मा जी को सर्व वेदों का ज्ञाता भी कहा जाता है अत: चार मुखी रुद्राक्ष धारण करने वाले व्‍यक्‍ति के जीवन में भी शिक्षा प्राप्ति के सभी रास्ते खुल जाते हैं।  

 
डिलीवरी: 3-4 दिनों में डिलीवरी
मुफ़्त शिपिंग: पूरे भारत में
फ़ोन पर ख़रीदें: +91 777 5038 777
अभिमंत्रित: फ्री अभिमन्त्रण पंडित सूरज शास्त्री जी द्वारा

विवरण

आकार एवं उत्‍पत्ति :गोलाकार नेपाली रूद्राक्ष
वजन (ग्राम) :~1.8-2.6
माप :~15
सर्टिफिकेशन:Astrovidhi
रंग:गहरा भूरा

स्‍वयं ब्रह्मा जी का स्‍वरूप है चार मुखी रुद्राक्ष। ब्रह्मा जी को सर्व वेदों का ज्ञाता भी कहा जाता है अत: चार मुखी रुद्राक्ष धारण करने वाले व्‍यक्‍ति के जीवन में भी शिक्षा प्राप्ति के सभी रास्ते खुल जाते हैं।  

चार मुखी रुद्राक्ष का ह्रदय से स्‍पर्श होते ही उसका मन धार्मिक हो जाता है।

4 मुखी रुद्राक्ष के लाभ 

  • जो व्‍यक्‍ति शिक्षा में कमज़ोर है उसे चार मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।
  • चार मुखी रुद्राक्ष के प्रभाव से ज्ञान और संतान प्राप्‍ति के मार्ग में आ रही समस्‍याएं दूर होती हैं।
  • मिथुन राशि वाले जातकों के लिए चार मुखी रुद्राक्ष अत्‍यंत लाभकारी है।
  • चार मुखी रुद्राक्ष एकाग्रता बढ़ाता है एवं वैज्ञानिक अध्‍ययन और धार्मिक ग्रंथों के अध्‍ययन में चार मुखी रुद्राक्ष काफी फायदेमंद साबित होता है।

कैसे करें प्रयोग 

चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र है - 

“ॐ ह्रीं नमः” 

हमसे क्‍यों लें 

चारमुखी रुद्राक्ष को हमारे पंडितजी द्वारा अभिमंत्रित कर के आपके पास भेजा जाएगा जिससे आपको शीघ्र अति शीघ्र इसका पूर्ण लाभ मिल सके।

 

Reviews

Based on 0 reviews

Write a review