Subscribe Daily Horoscope

Congratulation: You successfully subscribe Daily Horoscope.
 

दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट

दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट

दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट में साक्षात शिव और पार्वती बसते हैं। इसे धारण करने के बाद आप अपनी सारी समस्‍याएं ईश्‍वर पर छोड़ दें वही आपके बिगड़े काम संवारेंगें। 

डिलीवरी: 3-4 दिनों में डिलीवरी
मुफ़्त शिपिंग: पूरे भारत में
फ़ोन पर ख़रीदें: +91 82852 82851
अभिमंत्रित: फ्री अभिमन्त्रण पंडित सूरज शास्त्री जी द्वारा

विवरण

आकार एवं उत्‍पत्ति :हिमालयन रूद्राक्ष बूूंद के आकार का
वजन (ग्राम) :2.5 to 4.2 (Approx)
माप :23x30 (Approx)
सर्टिफिकेशन:Astrovidhi
धातु :चांदी

दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट में साक्षात शिव और पार्वती बसते हैं। इसे धारण करने के बाद आप अपनी सारी समस्‍याएं ईश्‍वर पर छोड़ दें वही आपके बिगड़े काम संवारेंगें। 

दो मुखी रुद्राक्ष इसलिए भी सबसे खास है क्‍योंकि इसे धारण करने से शिव और शक्‍ति का एकसाथ आशीर्वाद मिलता है।

2 मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट के लाभ - 

  • दांपत्‍य जीवन को सुखी बनाने के लिए दो मुखी रुद्राक्ष अत्‍यंत लाभकारी है।
  • दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट धारण करने से घर-परिवार में शांति बनी रहती है और कर्ज से मुक्‍ति मिलती है एवं मान-सम्‍मान में बढ़ोत्‍तरी होती है।
  • कर्क राशि वाले जातकों के लिए दो मुखी रुद्राक्ष अत्‍यंत उत्‍तम माना जाता है।

कैसे करें प्रयोग 2 मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट -

दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट को धारण करने का मंत्र “ॐ नमः”, “ॐ नमः शिवाय” और “ॐ नमः दुर्गाए” है। इसके अलावा “ॐ अर्ध्नारिश्वराए नमः” मंत्र का दिन में 5 माला रोज़ जाप करने से शिव और माँ पारवती की विशेष कृपा बरसती है।

2 मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट हमसे क्‍यों लें:

दो मुखी रुद्राक्ष पेंडेंट को हमारे पंडितजी द्वारा अभिमंत्रित कर के आपके पास भेजा जाएगा जिससे आपको शीघ्र अति शीघ्र इसका पूर्ण लाभ मिल सके।

 

Reviews

Based on 1 reviews

Write a review
 

शिव पार्वती का रूप

साक्षी राजावत

शादी के बाद जितना सोचा था, उतना अच्छा समय नहीं रहा तो हम दोनो ने आचार्य जी से सम्पर्क किया। उन्होंने हमारी जन्म पत्रिका देखने के बाद, हम दोनो को दो मुखी रुद्राक्ष धारण करने को कहा।
हमने तुरंत ही इसे astrovidhi से मँगवाया, जो की ३ दिन में ही घर पे आ गया।
पहनने के बाद से ही परिवार में ख़ुशहाली का दौर बनने लगा है।
बहुत बहुत धन्यवाद आचार्य जी।