शनि जयंती पर कर लेंगें ये उपाय तो कभी परेशान नहीं करेंगें शनि देव

ज्‍येष्‍ठ माह में आने वाली अमावस्‍या को शनि जयंती मनाई जाती है। कहा जाता है कि इस दिन शनि देव का जन्‍म हुआ था। शनि देव को न्‍याय का देवता कहा जाता है और मान्‍यता है कि शनि देव मनुष्‍य को उसके पाप कर्मों की सज़ा देते समय किसी भी तरह की कोई लापरवाही नहीं बरतते हैं।

शनि जयंती 2018

ज्‍येष्‍ठ माह में आ रही शनि जयंती इस बार 15 मई यानि मंगलवार के दिन मनाई जाएगी। चूंकि ये जयंती मंगलवार के दिन पड़ रही है और मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा होती है एवं हनुमान जी की पूजा करने पर शनि देव की कृपा भी प्राप्‍त होती है इसलिए इस बार की शनि जयंती बहुत खास है।

Kundli Software

शनि के जन्‍म की कथा

किवदंती है कि शनि, सूर्य देव के पिता हैं और उनकी माता का नाम छाया है। पौराणिक कथाओं के अनुसार सूर्य देव की पत्‍नी संज्ञा थी और उनसे सूर्य देव की 3 संतानें थीं – मनु, यम और यमुना। यम स्‍वयं मृत्‍यु के देवता यमराज हैं। संज्ञा अपने पति सूर्य का तेज सहन नहीं कर पा रही थी और जब यह पीड़ा उसकी सहनशक्‍ति से बाहर हो गई तो वह अपनी छाया को सूर्य देव की सेवा में लगाकर चली गई। छाया से ही सूर्य देव की जो संतान है उसे शनि के नाम से जाना जाता है। इस प्रकार यमराज शनि देव के सौतेले भाई हैं।

शनि जयंती की पूजन विधि

शनि जयंती के अवसर पर प्रात:काल उठकर स्‍नान करें और मंदिर में बैठकर शनि देव का ध्‍यान करें। नवग्रहों को नमस्‍कार कर शनि देव की लोहे की मूर्ति को स्‍थापित करें और उसे सरसों के तेल से स्‍नान करवाएं। इसके पश्‍चात् षोड्षोपचार पूजन करें और शनि देव के इस मंत्र का जाप करें –

ऊं शनिश्‍चराय नम: ।।

अब पूजन सामग्री सहित शनि देव से संबंधित वस्‍तुओं का दान करें। पूरा दिन निराहार रह कर जप और व्रत करें।

शनि जयंती का महत्‍व

शनि से संबंधित दोषों से मुक्‍ति पाने के लिए इस शनि जयंती के अवसर का लाभ उठा सकते हैं। इस दिन की गई पूजा और दान से शनि दोष एवं पीडा दूर होती है। शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या से पीडित हैं तो आपको शनि जयंती पर शनि देव को जरूर प्रसन्‍न करना चाहिए।

Buy Yellow Sapphire

क्‍या फल देते हैं शनि देव

आपके जीवन में जो कुछ भी अच्‍छा या बुरा घटित होता है, उसका कारण शनि देव ही हैं। शनि देव सफलता और असफलता भी प्रदान करते हैं। अगर आपको बहुत प्रयास करने के बाद भी नौकरी नहीं मिल रही है या आप बार-बार असफल हो रहे हैं तो इसका कारण शनि देव हो सकते हैं। नौकरी ना लगना, प्रमोशन ना मिलना, व्‍यापार में घाटा, निजी जीवन में कलह आदि शनि देव के प्रकोप के कारण हो सकती है।

शनि जयंती पर इन चीज़ों का करें दान

शनि देव से संबंधित वस्‍तुओं जैसे तिल, उड़द, काली मिर्च, मूंगफली का तेल, अचार, लौंग, तेजपत्ता और काला नमक प्रयोग करना चाहिए। इसके अलावा काले रंग के वस्‍त्र, जामुन, काली उड़द, काले जूते, तिल, लोहा, तेल आदि वस्‍तुओं को भी शनि के निमित्त दान में दे सकते हैं।

Horoscope 2019

शनि जयंती पर करें ये उपाय

शनि देव को प्रसन्‍न करने के लिए अपने हाथ से शनि जयंती जैसा मौका ना जाने दें।

  • शनि देव को प्रसन्‍न करने के लिए इस दिन काले रंग की वस्‍तुओं का दान करना चाहिए।
  • किसी गरीब या जरूरतमंद व्‍यक्‍ति या बच्‍चे को काले रंग की चप्‍पल पहनाएं। इससे शनि मजबूत होता है और जीवन की सारी मुश्किलें दूर होने लगती हैं।
  • शनि जयंती की शाम को भैरव जी के आगे काले तिल के तेल का दीपक जलाएं। ये उपाय आपको शनि दोष से मुक्‍ति दिलवाएगा।
  • हनुमान जी की पूजा से भी शनि पीड़ा से मुक्‍ति मिलती है। शनि जयंती पर सुंदरकांड का पाठ भी कर सकते हैं।
  • पीपल के पेड़ की पूजा से भी शनि दोष शांत होता है। शाम को स्‍नान के बाद पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। कच्‍चा दूध चढ़ाएं और धूर्प जलाएं।
  • शनि जयंती के दिन अपने घर में शनि यंत्र की स्‍थापना करें। इससे घर के सभी सदस्‍यों को शनि देव की कृपा प्राप्‍त होगी।

Buy Shani Yantra

अगर आपकी कुंडली में शनि दोष है मांस, मदिरा आदि से दूर रहें। ये चीज़ें शनि देव को कूपित कर सकती हैं। शनि देव को प्रसन्‍न करने के लिए शनि जयंती का अवसर हाथ से ना जाने दें।

किसी भी जानकारी के लिए Call करें :  8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Like और Follow करें : Astrologer Online

शनि जयंती पर कर लेंगें ये उपाय तो कभी परेशान नहीं करेंगें शनि देव
4.8 (95%) 4 votes