admin

सरकारी नौकरी में आ रही रुकावटों को दूर करने के लिए धारण करें माणिक रत्न

सरकारी नौकरी की कामना हर कोई करता है परन्तु सरकारी नौकरी पाने में प्रत्येक जातक सफल नहीं हो पाते ऐसे में अगर आप माणिक यानि रूबी रत्न से बनी अंगूठी धारण करते है तो सरकारी नौकरी या सरकारी कामों में आपको सफलता निश्चित रूप से मिलती है।

माणिक रत्न की विशेषता

माणिक गहरे लाल रंग से गुलाबी रंग तक का होता है, यह बहुत चमकदार रत्न होता है। माणिक रत्न अत्याधिक शक्तिशाली है, यह मुख्य रूप से एलुमिनियम ऑक्साइड है तथा यह बहुत ही अनमोल रत्न है। गहरा लाल रंग होने के बाद भी यह रत्‍न ट्रांस्‍पेरेंट होता है। इस रत्न को धारण करने के बाद नेतृत्व क्षमता में वृद्धि होती है।

माणिक रत्न कहाँ पाया जाता है

माणिक खनिज के रूप में सबसे ज्यादा म्यांमार, बर्मा में पाया जाता है। इसके अलावा यह भारत, पाकिस्तान, नेपाल, कंबोडिया, अफगानिस्तान, जापान, स्कॉटलैंड, नामीबिया में पाया जाता है।

कौन धारण कर सकता है

कुंडली में अगर सूर्य कमजोर स्थिति में है या सूर्य बलशाली होकर भी अपना शुभ प्रभाव नहीं दे पा रहे या सूर्य की महादशा या अन्तर्दशा चल रही हो तो माणिक  रत्न को धारण करने का विधान है। माणिक रत्न का अधिपति ग्रह सूर्य है और सूर्य की राशि सिंह है, इसलिए सिंह राशि के लोगों के लिए माणिक रत्न धारण करना लाभदायक होता है। सूर्य की कृपा से जातक को हर कार्य में सफलता मिलती है, इसलिए अगर सिंह राशि के लोग सफलता पाना चाहते हैं तो माणिक  रत्न जरुर पहनना चाहिए।

अभी माणिक्य भाग्य रत्न अंगूठी आर्डर करें  

माणिक धारण करने के लाभ

सरकारी नौकरी पाने के लिए

लगातार सरकारी नौकरी के प्रयास करने के बाद भी जरा सी चूक के कारण नौकरी में आनेवाली रुकावटों को दूर करने के लिए माणिक धारण करने की सलाह ज्योतिषाचार्यों द्वारा दी जाती है, इस रत्न के प्रभाव से सूर्य देव का आशीर्वाद मिलता है और जातक को सरकारी नौकरी या सरकारी कामों में सफलता मिलती है। इसके अलावा अगर नौकरी या कारोबार में व्यवधान उत्पन्न हो रहा हो तो माणिक रत्न जरुर धारण करना चाहिए, ऐसा करने से नौकरी/कारोबार में लाभ होता है।

आत्मविश्वास जागृत करने के लिए

माणिक रत्न आपके अन्दर छिपी हुई हिचकिचाहट या संकोच प्रवृत्ति को ख़त्म कर निडर तथा आत्मविश्वास जागृत करता है। इस रत्न में वे सभी गुण होते है जो जातक के आत्मविश्वास को जागृत करने का काम करता है इसलिए जो भी जातक आत्मविश्वास की कमी के कारण अपने काम में सफल नहीं हो पाते या डर जाते है उनको माणिक रत्न से बनी अंगूठी अवश्य धारण करनी चाहिए।

आँखों की समस्याओं से निजात

सूर्य अगर कुंडली में कमजोर है तो उसका विपरीत परिणाम आँखों पर पड़ता है, आँखों की रोशनी या आँखों से सम्बंधित बिमारियों का सामना जातक को निश्चित रूप से करना पड़ता है, अगर आप भी इस तरह आँखों की समस्याओं से जूझ रहे है तो आपको माणिक रत्न अवश्य धारण करना चाहिए। माणिक धारण करने से आँखों से सम्बंधित दिक्कते काफी हद तक ख़त्म हो जाती है।

नेतृत्व क्षमता का विकास

सूर्य अग्नि प्रधान ग्रह है और रूबी यानि माणिक रत्न उसका प्रमुख रत्न है। माणिक सब रत्नों का राजा माना जाता है। सूर्य की तेज की तरह ही जीवन में तेज बना रहे इसलिए माणिक धारण किया जाता है। इस रत्न के प्रभाव से मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। व्यक्ति में नेतृत्व करने के गुण आते है। उच्च पद पर आसीन लोगों को माणिक रत्न के प्रभाव से लाभ होता है।

संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Like और Follow करें : Astrologer on Facebook

अभी माणिक्य भाग्य रत्न अंगूठी आर्डर करें  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here