admin

व्यापार/कारोबार में वृद्धि के लिए धारण करें प्रभावशाली ग्यारह मुखी रुद्राक्ष

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष के प्रभाव से आय के स्रोत खुलते है और व्यापार, कारोबार में वृद्धि होती है। ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को राजनीति, कूटनीति और हर क्षेत्र में विजय हासिल होती है। व्यापारियों के लिए ग्यारहमुखी रुद्राक्ष अति उत्तम फल प्रदान करने वाला माना गया है। इस रुद्राक्ष की सतह पर 11 रेखाएं होती हैं।  ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को एकादशी रूद्र भी कहा जाता हैं क्योंकि हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए इस रुद्राक्ष धारण किया जाता है, इसमें हनुमान की गुणवत्ता, ध्यान, आशीर्वाद और समर्पण पाया जाता हैं। ग्यारह मुखी रुद्राक्ष। भगवान शिव का रुद्र रूप है ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष। ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को शिखा में बांधना या गले में धारण करना चाहिए। सेहत से सम्बंधित दिक्कते कम होती है। यदि दाम्पत्य जीवन में जीवनसाथी के साथ किसी प्रकार की शारीरिक समस्या उत्पन्न हो रही है तो उससे मुक्ति मिलती है। धन-संपत्ति, भाग्योदय के लिए ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को अवश्य धारण करना चाहिए।    

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष और ज्योतिष

यदि कुंडली में मंगल कमजोर हो अथवा अस्त हो तो ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करना लाभदायक होता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार ग्यारह मुखी रुद्राक्ष का स्वामी मंगल है। इसी कारण ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करनेवाले व्यक्ति के आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। सभी क्षेत्र में विजय होती है। ग्यारह मुखी रुद्राक्ष एक सफल एवं उत्तम रुद्राक्ष माना गया है, इसलिए हनुमान जी की उपासना करने वाले कारोबारियों को इस रुद्राक्ष को अवश्य धारण करना चाहिए। मेष और वृश्चिक राशि के लोगों के लिए यह रुद्राक्ष बहुत ही लाभकारी है।

अभी 11 मुखी रुद्राक्ष आर्डर करें

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने के नियम

  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करनेवाला व्यक्ति सदाचार का पालन करनेवाला होना चाहिए।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति की भगवान शिव के प्रति गहरी आस्था होनी चाहिए।
  • मांस-मदीरा या अन्य नशे की वस्तुओं से दूर रहना चाहिए।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को गुरूवार के दिन धारण करना शुभ होता है।

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण विधि

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से पूर्व गंगाजल या कच्चे दूध से उसे शुद्ध करें। इसे धारण करने के लिए एक घी का दीपक जलाकर उसे रंगोली में रंगे हुए चावल पर रखें। प्रातःकाल स्नान आदि करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें और पूर्व दिशा की और बैठकर ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को जागृत करने के लिए ॐ ह्रीं हूँ नमः  या ॐ नमः शिवाय  मंत्र का उच्‍चारण 108 बार करें।

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष के फायदे  

  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने के बाद व्यक्ति का भाग्योदय होता है। समाज में प्रसिद्धि मिलती है। यह उन लोगों को प्रोत्साहित करने में मदद करता हैं, जो जीवन में असफलताओं का सामना करते हैं और सफलता प्राप्त करना चाहते हैं
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष शारीरिक और मानसिक शांति प्रदान करता हैं, यह व्यक्ति को बुद्धिमान बनाता हैं।
  •  

अभी 11 मुखी रुद्राक्ष आर्डर करें

  • अगर किसी जातक की कुंडली में मंगल अशुभ घर में है या मंगल ग्रह की दशा या अन्तर्दशा चल रही है तो ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को पहनना उचित होता है। साथ ही यह शनि ग्रह के अशुभ प्रभाव को दूर करने में सहायता करता हैं।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से जातक चिंतामुक्त और साहसी, निडर हो जाता है। शत्रु भय से मुक्त हो जाता है।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष व्यक्ति के जीवन को प्रकाशमय करने में अहम भूमिका निभाता है।
  • इस रुद्राक्ष के प्रभाव से धारणकर्ता को कामकाज में बढ़िया धन लाभ होता है तथा मान-सम्मान के साथ साथ उसकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार होता है।
  • ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को राजनीति, कूटनीति और हर क्षेत्र में विजय हासिल होती है।
  • व्यापारियों के लिए ग्यारहमुखी रुद्राक्ष अति उत्तम फल प्रदान करने वाला माना गया है। व्यापारियों को यह अवश्य धारण करना चाहिए।
  • ग्यारह मुखी ध्यान और भगवान के प्रति एकल-भक्ति पर ध्यान केन्द्रित करने में जातक की मदद करता हैं, व्यक्ति को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देता हैं।
  • जिस महिला को संतान प्राप्ति में दिक्कते आ रही हैं या संतान नहीं हो रही उसे यह 11 मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए।

अभी 11 मुखी रुद्राक्ष आर्डर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here