मंगल और राहु का ऐसा मिलन खराब कर सकता है आपकी जिदंगी, जानें उपाय

कुंडली में ग्रहों की कई तरह की विशेष स्थिति मनुष्‍य के जीवन पर प्रभाव डालती है। अगर कुंडली में मंगल और राहु अशुभ स्‍थान में बैठे हैं तो इस वजह से आपको परेशानी हो सकती है। ये दो ग्रह जब भी मिलते हैं तो बहुत अशुभ योग बनता है।

अगर कुंडली में ये दो ग्रह मिल रहे हैं तो उस जातक के साथ झगड़े, दुर्घटना, तनाव और कई तरह की परेशानियां आती हैं। इन ग्रहों की जोड़ी जिस भी व्‍यक्‍ति की कुंडली में बन जाए वो बहुत परेशान रहता है और इन्‍हें अपने जीवन में सफलता भी नहीं मिल पाती है।

मंगल और राहु बनाते हैं अंगारक योग

जब कुंडली के किसी घर में राहु और मंगल हो तो अंगारक योग का निर्माण होता है। मंगल को ऊर्जा और साहस का स्रोत माना जाता है। ये ग्रह अग्‍नि तत्‍व से संबंधित है जबकि राहु भ्रम और नकारात्‍मक भावनाओं से संबंधित है।

Janam Kundali Software

इन दोनों ही ग्रहों के ए‍क ही भाव में उपस्थित होने पर इन दोनों की ताकत बहुत ज्‍यादा हो जाती है। लाल किताब में मंगल और राहु के इस अंगारक योग को पागल हाथी या बिगड़ा शेर का नाम दिया गया है। अगर किसी की कुंडली में ये अंगारक योग बनता है तो उस व्‍यक्‍ति को अपनी मेहनत से नाम और पैसा कमाने का मौका मिलता है। इनके जीवन में कई उतार-चढ़ाव आते हैं और इनके जीवन में अच्‍छे और बुरे दोनों तरह के फल मिलते हैं।

अंगारक योग का प्रभाव

इस योग के कारण जातक का स्‍वभाव आक्रामक, हिंसक और नकारात्‍मक हो जाता है और उसे अपने परिवार के सदस्‍यों, दोस्‍तों और रिश्‍तेदारों के साथ संबंध खराब होने लगते हैं। वैदिक ज्‍योतिषों का कहना है कि कुंडली में अंगारक योग बनने से जातक अपराधी तक बन सकता है। उसे अपने गलत कामों की वजह से जेल अथवा कारावास में भी रहना पड़ सकता है।

अंगारक योग के बारे मे सब कुछ पढ़ें

इस अशुभ योग की वजह से धन से जुड़ी परेशानियां आती हैं और बहुत तरह के उतार-चढ़ाव भी बने रहते हैं। अगर आपकी कुंडली में ये योग बन रहा है तो आप पं. सूरज शास्‍त्री द्वारा इसकी शांति पूजा करवा सकते हैं। इस पूजा के बाद से आपके जीवन पर अंगारक योग का दुष्‍प्रभाव कम हो जाएगा। अंगारक योग शांति पूजा करवाने के लिए इस नंबर पर संपर्क करें – 8882540540

मंगल और राहु का ऐसा मिलन खराब कर सकता है आपकी जिदंगी, जानें उपाय
5 (100%) 7 votes