Acharya Raman

आराध्या बच्चन ने निकलीं कोरोना से ग्रस्त : आगे क्या?

एक बुरी खबर यह आई कि आराध्य बच्चन कोरोना के ग्रस्त हो गई है।  अमिताभ बच्चन पहले से अस्पताल में भर्ती हैं और अभिषेक बच्चन भी हैं। ऐश्वर्या भी ग्रस्त  हैं।

मेरी दिलचस्पी आराध्या में है क्योंकि वह सिर्फ एक बच्ची है औरभारत में 45 वर्ष से अधिक उम्र के  वयस्क तथा १० वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए यह बीमारी घातक है, जैसा कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट में बताया गया है।

AstroVidhi.com की सटीक कुंडली के अनुसार उनका जन्म 16.11.2011 को हुआ था। उनके लग्न का उप नक्षत्र स्वामी शनि है  जो 12 वें घर में है। लग्न राहु के नक्षत्र में है जो कि शुक्र बुध से युति किये हुए है। लग्न या लग्नेश का 12 वें घर या मारक घरों से संबंध होने पर आयु पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। शनि मंगल के नक्षत्र में है जो तुला राशि के लिए एक मारक ग्रह है।

लेकिन हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि वह अमिताभ बच्चन की की पोती हैं और वे अपनी पोती के लिए इस ग्रह पर उपलब्ध सर्वोत्तम चीजें करेंगे।

अभी महालक्ष्मी पूजा करवाएं  

जन्म कुंडली में 21-01-2022 तक शनि की दशा और अन्तर दशा है और शनि मंगल के नक्षत्र  और बुध के उप नक्षत्र में है। शनि 12 वें भाव में है। मंगल 10 वें और बुध दूसरे भाव में है। और 9 वें और 12 वें भाव पर शासन कर रहा है।

इसलिए हम देखते हैं कि 8-12 घरों संयोग सक्रिय है। टीवी पर देखने के बाद मैंने अपने स्थान पर नंबर 95 के साथ एक प्रश्न चार्ट बनाया। चार्ट नीचे दिया गया है।

aaradhya horary

“मन में स्पष्ट सवाल है कि क्या आराध्या जीवित रहेगी या नहीं क्योंकि वह 10 वर्ष से कम है।

चंद्रमा स्वयं 12 वें भाव का अधिपति है अतः प्रश्न उचित है। यह बुध के नक्षत्र में 8 वें घर में  है। बुध द्वितीय भाव का अधिपति है। लग्न शुक्र के नक्षत्र और चंद्रमा के उप नक्षत्र में है। चंद्रमा लग्न और 8 वें घर का संबंध यह संकेत दे रहा है कि आने वाले समय में स्थिति  गंभीर हो सकती हैं।

बुध की महादशा है। यह राहु के नक्षत्र  में और शनि के उप नक्षत्र  में है। शनि 5 वें घर में है और 6 वें और 7 वें घर का स्वामी है। बुध स्वयं 10 वें भाव में है।

aaradhya bachcan hindi natal chart

अंतरा 17-04-2021 तक शुक्र का है। शुक्र चंद्रमा के नक्षत्र में और शनि के उप नक्षत्र में है। शुक्र चंद्रमा के तारे में है और केतु चंद्रमा के उप में है। केपी के अनुसार उप नक्षत्र स्वामी निर्णायक कारक है और केतु चंद्रमा के साथ सम्बंधित  है जिसकी अवधि 2021 में संचालित होगी।

रूलिंग ग्रह सूर्य, शुक्र, बुध हैं। उनमें से कोई भी धीमा चलने वाला ग्रह नहीं है।

हम देखते हैं कि न केवल जन्म कुंडली से, बल्कि प्रश्न चार्ट से भी, लड़की का जीवनकाल लंबा नहीं रहने वाला है।  मुझे लगता है कि उसे उचित उपचार दिया जाना चाहिए और 2022 के अंत तक उसके स्वास्थ्य को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

यह मात्र संयोग नहीं है कि उसका प्रश्न चार्ट 8 वें घर से जुड़ा है और जन्म चार्ट 12 वें घर से जुड़ा है। वह इस कोरोना हमले से बच सकती है लेकिन 2022 तक उसे अपने स्वास्थ्य के संबंध में उचित ध्यान देना चाहिए अन्यथा अवांछित घटना घाट सकती है |

अभी महालक्ष्मी पूजा करवाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here