हर मां को इस विधि से रखना चाहिए अहोई अष्टमी का व्रत

अहोई अष्‍टमी का व्रत माताएं अपनी संतान के उज्‍जवल भविष्‍य और दीर्घायु के लिए करती हैं। अहोई अष्‍टमी पर उषाकाल से गोधूलि बेला यानि शाम तक उपवास करने का विधान है।

करवा चौथ के व्रत के चार दिन बाद और दीपावली पूजन से आठ दिन पहले अहोई व्रत किया जाता है। उत्तर भारत में ये व्रत ज्‍यादा लोकप्रिय है। अष्‍टमी तिथि पर पड़ने के कारण इस व्रत को अहोई आठे के नाम से भी जाना जाता है।

अहोई अष्‍टमी के दिन माताओं को अपनी संतान के लिए उपवास रखना होता है। आकाश में तारे देखने के बाद ही महिलाएं भोजन ग्रहण करती हैं।

इस बार अहोई अष्‍टमी का व्रत 12 अक्‍टूबर को है और इस दिन सभी माताएं अपनी संतान के उत्तम स्‍वास्‍थ्‍य, दीर्घायु और तरक्‍की के लिए व्रत रखती हैं।

अहोई अष्‍टमी व्रत का शुभ मुहूर्त

पूजन मुहूर्त : 17.50 से 19.06 तक

अवधि : 1 घंटा 15 मिनट

तारे देखने का समय : 18.18

चंद्रोदय का समय : 23.53

अष्‍टमी तिथि प्रारंभ : 12 अक्‍टूबर को सुबह 6 बजकर 55 मिनट

अष्‍टमी तिथि समाप्‍त : 13 अक्‍टूबर को सुबह 4 बजकर 59 मिनट

अहोई अष्‍टमी व्रत विधि

ये व्रत केवल माताएं ही कर सकती हैं। अहोई अष्‍टमी के दिन प्रात: काल उठकर एक करवा लें और उसमें पानी भर कर रखें। पूरा दिन व्रत रखें और अहोई माता को फलों का भोग लगाकर पूजन करें।

शाम को तारे दिखाई देने के बाद अहोई माता का पूजन करें। जिस करवे में सुबह पानी भरकर रखा था, उससे तारों को अर्घ्‍य दें। गेरू से दीवार पर अहोई बनाएं और अहोई माता को मीठे का भोग लगाकर हाथ से पानी पीकर व्रत का समापन करें।

Wear Energized Rudraksha to live healthy and wealthy

अहोई अष्‍टमी उद्यापन विधि

यदि किसी स्‍त्री का पुत्र ना हो या उसके पुत्र का विवाह हो गया हो तो उस स्‍त्री को उद्यापन जरूर करना चाहिए। उद्यापन के लिए एक थाली लें और उसमें सात जगह चार-चार पूरियां और उस पर हलवा रखें। इस पर पीले रंग की साड़ी या अन्‍य कोई वस्‍त्र और रुपए रखें। इसे अपनी सास को उपहार में दें और उनसे आशीर्वाद लें। सास को वस्‍त्र और रुपए अपने पास रखकर हलवा-पूरी पड़ोस में वितरित कर देना चाहिए। संभव हो तो किसी कन्‍या को खिला दें।

इसके अलावा अगर आपके जीवन में पैसों से संबंधित कोई और परेशानी भी चल रही है या आप किसी अन्‍य मुसीबत की वजह से परेशान हैं तो बेझिझक हमसे कहें। AstroVidhi के अनुभवी ज्‍योतिषाचार्य आपकी हर मुश्किल का समाधान बताएंगें।

किसी भी जानकारी के लिए Call करें : 8882540540

ज्‍योतिष से संबधित अधिक जानकारी और दैनिक राशिफल पढने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को Like और Follow करें : AstroVidhi Facebook Page

हर मां को इस विधि से रखना चाहिए अहोई अष्टमी का व्रत
Rate this post